बंद करे

राष्ट्रीय

चित्र उपलब्ध नहीं है

आधारशिला – कटनी स्टोन आर्ट फेस्टिवल आरकाइव

पबलिश्ड ऑन: 29/11/2021

कटनी स्टोन एवं मार्बल शिल्प “आधार शिला” शैलोत्सव कटनी जिला मध्य प्रदेश का पहला स्टोन आर्ट फेस्टिवल – आधारशिला लॉन्च करते हुए गर्व महसूस कर रहा है। हमारे पहले कटनी स्टोन फेस्ट में एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) के तहत कटनी स्टोन मनाने में सहभागिता करें ।   भारत के मूर्तिकारों के लिए सैंड स्टोन […]

और
कटनी स्टोन आर्ट फेस्टिवल.

आधारशिला – कटनी स्टोन आर्ट फेस्टिवल

पबलिश्ड ऑन: 24/10/2021

  आधारशिला – कटनी स्टोन आर्ट फेस्टिवल में आयोजित कार्यक्रमों के बारे मे जानने के लिए आरकाइव पेज पर जाने हेतु यहाँ क्लिक करें.

और
देश का भौगोलिक केंद्र बिंदु

देश का भौगौलिक केन्द्र बिंदु

पबलिश्ड ऑन: 28/09/2021

करौंदी में देश का भौगौलिक केन्द्रबिंदु – भौगोलिक दृष्टि से कटनी जिले की ढीमरखेड़ा तहसील का करौंदी गांव का अपना महत्व है। करीब 200 की आबादी वाले गांव को भारत का भौगोलिक केंद्र बिंदु माना जाता है। भारत के आठ राज्यों से गुजरने वाली कर्क रेखा इस गांव से गुजरती है। विंध्याचल पर्वत शृंखला की […]

और
विजयराघवगढ़ का किला.

विजयराघवगढ़ का किला

पबलिश्ड ऑन: 28/09/2021

विजयराघवगढ़ के किले में शुरू हुई अंग्रेजों के खिलाफ बगावत – ब्रिटिश शासन की बेडियों में जकड़े देश को आजाद कराने में अहम भूमिका निभाने वाले विजयराघवगढ़ रियासत के राजा प्रयागदास के पुत्र राजा सरयूप्रसाद का किला आज भी अपनी कहानी बयां करता है। 1857 की क्रांति में इस महायोद्धा ने न सिर्फ अंग्रेजों के […]

और
स्लीमनाबाद की उत्पत्ति के संबंध में लेख.

स्लीमनाबाद

पबलिश्ड ऑन: 28/09/2021

कर्नल स्लीमन ने बसाया था स्लीमनाबाद – जिले का स्लीमनाबाद कस्बा अंग्रेज अधिकारी कर्नल हेनरी विलियम स्लीमन के नाम से बसा है। अंग्रेज अधिकारी को इस क्षेत्र का ठग गिरोह समाप्त करने के लिए भेजा गया था। वर्षों बाद आज भी कर्नल स्लीमन के वंशज इंग्लैंड से स्लीमनाबाद आते रहते हैं। स्लीमन की सातवीं पीढ़ी […]

और
तिगवां.

तिगवां

पबलिश्ड ऑन: 28/09/2021

तिगवां में है गुप्तकालीन मंदिर – बहोरीबंद तहसील का तिगवां एक ऐतिहासिक जगह है। इस जगह पर पत्थर की शानदार नक्काशी देखने के लिए मिलती है। यहां पर कंकाली देवी का मंदिर भी है। कंकाली देवी का मंदिर छोटा व गुप्तकालीन मंदिर है और लगभग 5वीं शताब्दी में बना हुआ है। इसके सामने मंडप बना […]

और
बाबा ईश्वरशाह.

हरे माधव दरबार

पबलिश्ड ऑन: 28/09/2021

आस्था का केन्द्र हरे माधव दरबार- शहर के माधवनगर में सतगुरू बाबा माधवशाह-बाबा नारायणशाह का गुरूद्वारा हरे माधव दरबार स्थापित है। गुरूद्वारे को लेकर देशभर में बसे समाज के लोगों की आस्था है। एक सिंधी समाज ही बल्कि हर समुदाय के लोगों की इस गुरूद्वारे से आस्था जुड़ी हुई है। लगभग 75 वर्ष पुराने गुरूद्वारे […]

और
श्री दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र.

श्री दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र बहोरीबंद

पबलिश्ड ऑन: 28/09/2021

बहोरीबंद तहसील मुख्यालय से महज 2 किमी. की दूरी पर जैन समाज का तीर्थ स्थल श्री दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र स्थित है। पुरा संपदा से भरपूर इस स्थान पर जैन समाज के 16वें तीर्थंकर भगवान शांतिनाथ की 16 फीट ऊंची प्रतिमा है। मूर्ति के पास ही शिलालेख भी हैं। पुरातत्व विशेषज्ञों के अनुसार बहोरीबंद का […]

और
पुष्पवती नगरी.

पुष्पावती नगरी बिलहरी

पबलिश्ड ऑन: 28/09/2021

85 मंदिर, 13 बावड़ी से घिरी है पुष्पावती नगरी बिलहरी – कटनी जिला मुख्यालय से महज 15 किलोमीटर दूर स्थित पुष्पावती नगरी बिलहरी 85 मंदिर और 13 बावड़ियों से घिरी है। यह स्थान न सिर्फ 945 ईसवीं के इतिहास को संजोये हुए है बल्कि यहां की पुरातात्विक धरोहरों की नक्काशी खुद ब खुद अतीत को […]

और